मेरा कोहिनूर

dd6b9000-445a-443a-8de2-0235d2d17deb

तू मेरा  अभिमान  है, रब का दिया अनमोल वरदान है;

हरपल  मेरे  संग  रहना , तू मेरा अरमान  है |

तू मेरा नूर  है, तू मेरा सुकून है ;

पराई होकर भी पराया न होना, तो मेरा खून है |

तू  मेरी  हूर है तो , तू ही मेरा गुरुर है ;

हर बेटी, हर माँ , का हीरा, पर तू मेरा कोहिनूर है ..

तू मेरा कोहिनूर है |

∼ लक्ष्मी मित्तल 

Advertisements

तू भगवान किसका है ?

atalNNNZkZKm.

कौन हिन्दू , कौन मुसलमान ,क्या जाति-धर्म , मैं नहीं मानता  ;

तू भगवान इनमें से , किसका है ,  मैं नहीं जानता |

नहीं जानता मुझे पैदा करने वाली कोख, हिन्दू की थी या मुसलमान की थी ;

जानता हूँ तो बस इतना कि मुझे दुनिया में लाने वाली मेरी माँ थी |

बाहर आया तो देखा , भगवान भी बंट गए हैं ;

कुछ हिन्दुओं के, कुछ मुसलमानों के , कुछ अन्य के हो गए हैं |

मैं तो नन्हा फ़रिश्ता हूँ , ज़्यादा नहीं जानता ;

गणेश हो , नानक हो , अल्लाह  हो या ईसा , अलग नहीं मानता |

रूप तेरे अनेक पर तू  इक ज्योति स्वरूप है ;

तू सबका , तेरे  सब  और  तू एक, सिर्फ एक है |

∼ लक्ष्मी मित्तल 

 

“कानून के हाथ यहां छोटे पड़ रहे हैं। मुझे चेक नहीं, इंसाफ चाहिए।”

 

कुकर्म करतें हैं पहले, फिर छिपते फिरते हैं

दरिन्दगी करतें हैं जब, तब क्यूँ नहीं डरते हैं

आज नहीं पकड़े गए मगर कल हाथ आ जाएँगे

कानून के हाथ आज छोटे पड़ गए लेकिन कल लंबे हो जाएँगे

∼ लक्ष्मी मित्तल 

 

बाईक ने खुदकुशी की

WhatsApp Image 2018-09-17 at 4.07.34 PM

पेट्रोल की बढ़ती कीमतों ने….. मुझे भी हिला डाला ;

इसलिए खुदकुशी करने का मन, मैंने बना डाला |

परेशानियों से घबराकर, मैं तो बिल्कुल टूट गई ;

ए इन्सां  !  तुम घबराना नहीं, मैं तो जिन्दगी से रूठ गई |

धड़कनें नहीं धड़कतीं मुझ में, इसलिए जाने का गम नहीं ;

गर मेरी जगह तुम होते, यह गम किसी भी गम से कम नहीं |

मैं सीमाओं को लांघ गई, तुम कभी यूँ लांघना नहीं ;

तू तो अनमोल है, अपने आपको कभी टांगना नहीं |

∼ लक्ष्मी मित्तल

आज इक फोटो करवा लें

fe4cf81a-8557-40ec-a242-071ea2ac9955कभी तूने हमको बनाया, आज हमने तुझे बनाया है

हम खुश हैं ………. तू अपने संग खुशियाँ लाया है |

सोच- समझ कर गढ़ता हमको, हमने भी मेहनत से गढ़ा है

जिस मिट्टी से हम बने, उसी  मिट्टी से तू बना है |

अब तो कुछ दिन, पलपल तुझे पूजा जाएगा

पकवान बनेगें तेरे लिए, शायद हमको भी कुछ मिल जाएगा |

हम खुश हैं ………

चलो हम आज कुछ खेलें , कुछ तेरे संग बतिया लें

कल न जानें कौन ले जाए तुम्हें, आज ही इक फोटो करवा लें |

SMILE GANESHA

∼ लक्ष्मी मित्तल 

गया तो , तुम्हारा क्या गया ???

489263728-612x612

जिम्मेवारी डालते रहो, एक – दूसरे पर ;

इलज़ाम लगाते  रहो, एक – दूसरे पर ;

गया तो किसी का चिराग़ गया, तुम्हारा क्या गया ;

तुम तो यूँ  ही रोटियां सेकते रहो, मौतों पर ….

 

एक पैर वाले पिता से पूछो, जिसका दूजा पैर भी चला गया ;

पूछो उस नन्ही जान से, पिता का इंतज़ार अभी खत्म न हुआ ;

गया तो किसी का चिराग़ गया, तुम्हारा क्या गया ;

तुम तो यूँ  ही रोटियां सेकते रहो, मौतों पर ….

 

होश गवां रहे दादा-दादी से पूछो, पोते की मरण खबर पा रहे ;

पूछो उन परिवारों से पूछो, तुम्हारी लापरवाही से , बच्चों को अपने गवां रहे ;

गया तो किसी का चिराग़ गया, तुम्हारा क्या गया ;

तुम तो यूँ  ही रोटियां सेकते रहो, मौतों पर ….

 

जांच का आदेश देकर,लगा लेते हो लाशों  की कीमत ;

देकर चंद कागज़ के टुकड़े , मान लेते अपनी गनीमत ;

सुधार लें इस सिस्टम को, तुम्हारे भेज़े में नहीं आएगा ;

भूल जाओगे इन चिरागों को, कल कोई और जाएगा ….

तुम तो यूँ  ही रोटियां सेकते रहो, मौतों पर ….

∼ लक्ष्मी मित्तल 

 

 

 

 

डर

hqdefault

डर से डर मत……..

डर से डर मत,डर उतना तुझे डराएगा ;

जितना भागेगा डर से, डर उतना तुझे भगाएगा |

डट जा कहीं, रुक जा कहीं ;

डर, डरकर रुक जाएगा ;

जितना भागेगा डर से, डर उतना तुझे भगाएगा |

हिम्मत दिखा , सामना कर ;

डर देखना डर जाएगा ;

जितना भागेगा डर से, डर उतना तुझे भगाएगा |

जितनी तू ताकत  दिखाएगा , उतना कमज़ोर डर हो जाएगा;

फिर इक दिन ऐसा आएगा

तेरे बुलंद होंसलों के आगे

डर भी हारकर झुक जाएगा—2

∼ लक्ष्मी मित्तल 

 

 

 

आग से न खेलना (INFORMATIIVE FOR CHILDREN ALSO)

721966-crystal-tower-pti

 

“आग से न खेलना, चोट लग जाती है ”  बचपन में  बार-बार यही बताया जाता है |लेकिन मुंबई के क्रिस्टल टावर की विल्डिंग में लगी भयानक आग में, कैसे १० वर्ष की जेन सदावर्ते  ने अपनी सूझ वूझ और fire fighting  and disaster– management की सीख को mind में रखते हुए कई जानों को बचाया |यह एक वहुत  informative and inspiring कहानी है जिसे मैंने इस short kavita के जरिए बताना चाहा है |

छोटी – सी जेन सदावर्ते, मिसाल बन जाती है ;

आग से न खेलना, चोट लग जाती है |

वो नन्ही सी परी,  भयानक आग से गिरी ;

इक पल के लिए, सुन्न हो जाती है |

आग से न खेलना, चोट लग जाती है ||

काले धुएं का भवंडर , अफरा-तफरी सबके अन्दर;

नन्ही परी अपनी मासूमियत भूल जाती है |

आग से न खेलना, चोट लग जाती है ||

वो घुटन भरा माहोल, प्राणों को बचाने की होड़ ;

नन्ही परी, खुद खतरों के खिलाड़ी बन जाती है |

आग से न खेलना, चोट लग जाती है ||

cotton के गीले कपड़े,  air purifier बने टुकड़े ;

मुंह पर रखने की, सलाह देती जाती है |

सांस लेने में दिक्कत, कम हो जाती है ||

आग से न खेलना, चोट लग जाती है ||

fire fighting की सीख, बनी आज उसकी जीत ;

अपनी सूझ-वूझ से, आग से भी लड़ जाती है |

आग से न खेलना, चोट लग जाती है ||

आग से न खेलना, चोट लग जाती है ||

∼ लक्ष्मी मित्तल 

अगर आपको ये कविता INFORMATIVE लगी हो तो SHARE  कीजिये  ताकि  ज्यादा से ज्यादा लोगों तक यह  जानकारी पहुंच सके |

 

 

मेरे गुरु—– मेरे माता-पिता(Teachers’ Day)

download

गुरुर्ब्रह्मा ग्रुरुर्विष्णुः गुरुर्देवो महेश्वरः । गुरुः साक्षात् परं ब्रह्म तस्मै श्री गुरवे नमः ॥

गुरु ब्रह्मा है, गुरु विष्णु है, गुरु ही  शंकर है; गुरु ही साक्षात् परब्रह्म है; उन सद्गुरु को प्रणाम ।

लेकिन मेरे साक्षात् गुरु मेरे माता-पिता हैं |आज Teachers’ Day पर मैं अपने प्रथम गुरुको इस कविता के माध्यम से नमन करना चाहती हूँ ………….

प्रथम गुरु मात-पिता को, मेरा शत्-शत् नमन

सब दुःख खुद सहकर, देते सुखमय जीवन…………….

बचपन में उंगली पकड़, जिन्होंने चलना सिखाया ;

उम्र के हर पड़ाव पर, जिन्होंने संभलना सिखाया ;

सही क्या है? गलत क्या  है?, जिन्होंने सब बताया ;

जीवन के हर उतार-चढ़ाव में, जिन्होंने साथ निभाया ;

 

आज के दिन, उनके लिए’ प्रभु से मेरी प्रार्थना….. 

 

दिल से विनती उससे, जिसने संसार रचाया;

उन ममतामयी आंचल की, हरपल मिलती रहे छाया ||

∼लक्ष्मी मित्तल 

तकदीर जगेगी|(कृष्ण भजन )

आज जन्माष्टमी है | सिर्फ भक्त ही नहीं इंतज़ार कर रहे भगवान का, बल्कि भगवान भी अपने भक्तों के घर आने के लिए उतावले हैं …………

 Beautiful-Lord-Krishna-hd-Wallpaper 

मुझे भक्तों घर जाना है……..थोड़ा देर लगेगी ;

उन्हें अपना बनाना है………. थोड़ा देर लगेगी |

पत्थर की मूर्त में, उन्होंने मुझे विठाया है,

फूलों के हारों से…. मुझे सजाया है,

उन्हें संदेश भिजवाना है…….. थोड़ा देर लगेगी |

_______________

हरदम हरपल वो मेरे दीवाने हैं,

मेरे लिए सहते वो, दुनिया के तानें हैं,

मुझे उन्हें बताना है……. थोड़ा देर लगेगी |

_______________

सोलह श्रंगारों से वो मुझे रिझाते हैं,

छप्पन भोगों से वो मुझे मनाते हैं,

उन्हें विश्वास दिलाना है………उनकी तकदीर जगेगी|

मुझे भक्तों घर जाना है ,  थोडा देर लगेगी ;

उन्हें अपना बनाना है ,  थोड़ा देर लगेगी |

जय जय राधे श्याम !!!!!

∼लक्ष्मी मित्तल 

 

 

 

 

             

हिन्दी में राधा -कृष्ण का भजन(जन्माष्टमी)

wallpaper2you_400803

गौरी – गौरी राधिका के, सांवरो मन भा गयो ,

कोमल सा दिल देखो, उनके दिल पे छा गयो—2 |

मोर मुकुट उनपे कैसो दमके,

अम्बर में जैसो कोई चाँद चमके,

ऐसो चंद सा मुकुट, उनके मन को भा गयो,

कोमल सा दिल देखो, उनके दिल पे छा गयो |

 

हाथ में बंसी देखो कैसी चमके,

आसमा में जैसो, इन्द्रधनुष लटके,

बंसी की तान,उनके मन को भा गयो,

कोमल सा दिल देखो, उनके दिल पे छा गयो |

 

गले में वैजयंती माला,कैसो सोहे,

हाथों में कंगना , देखो मन मोहे,

कंगनों की खनखन, उनके मन को भा गयो,

कोमल सा दिल देखो, उनके दिल पे छा गयो |

 

कानों में कुंडल, कैसो दमकें,

पाँव की पैज़निया देखो चमकें,

पायल की छनछन, उनके मन को भा गयो,

कोमल सा दिल देखो, उनके दिल पे छा गयो |

 

राधा संग श्याम देखो कितना दमकें,

राधे के लिए ही तो इतना चमकें,

राधा का श्रृंगार, श्याम मन भा गयो,

कोमल सा दिल देखो, उनके दिल पे छा गयो –2 |

जय  जय  राधे  श्याम ! ! !

∼ लक्ष्मी मित्तल 

 

 

 

 

अधूरे सपने

 

5bb533aa57026f7565688df7feac7049

यह कहानी उन नारियों की है जो अपने लिए सपना तो देखती हैं लेकिन किन्हीं कारणों से उनको पूरा नहीं कर पाती  हैं |फिर भी आस नहीं छोड़तीं |


सपना संजोया था जो दिल में, पाने का अवसर पाया नहीं ;

पंख लगाए थे जो उड़ान को,उड़ने का अवसर आया नहीं |

अपनों के लिए जीने की आदत हो गई,अपने लिए जीना आया नहीं ;

अमृत पिलाती रही सबको, अमृत पीना मुझे आया नहीं |

मंज़िल तो दिख रही थी, रस्ते पर चलना आया नहीं ;

कदम उठे भी तो कभी , कदम आगे बढ़ाना  मुझे आया नहीं |

अनगिनत उलझनों से गुजरकर, उलझन सुलझाना आया नहीं ;

खरा उतरने की कोशिश में, खरा उतरना मुझे आया नहीं |

वक्त दिया है सबको मैंने, वक्त पाना मुझे आया नहीं ;

मेरा अपना भी वक्त आएगा, इसलिए सपने को मैंने भुलाया नहीं |

 ∼ लक्ष्मी मित्तल 

 

आज की बारिश

Monsoon-care-for-babies

 

सुबह के ६:०० बजे  …… ऑफिस का दिन ……धुंआधार बारिश …….

बारिश को देख मेरे मन की दशा ………………………

 

बिजली कड़क रही थी, आसमां में बड़ी हलचल थी ;

मेघा भर – भर पानी ला रहे,  बारिश भी पूरी ज़िद में थी |

इस धुंआधार बारिश ने, मन को मेरे मोह लिया;

पागल मन ने तरह – तरह के सपनो को संजो लिया |

छत पर चढ़ कर ,आसमा से गिरती बूंदों संग गुनगुना लूँ ;

या बालकनी में खड़े होकर, ज़मी पर थिरकती बूंदों से बतिया लूँ |

लेकिन ………..

इक उज्ज्वल मोती ने, सोच को मेरी झकझोड़ दिया ;

याद आया, आज छुट्टी नहीं, ऑफिस का समय हो गया |

इतनी बारिश में ऑफिस ??????  लेकिन अगले ही पल लगा बारिश कुछ कह रही है ……..

जो आज हिम्मत अपनी, जुटा जाएगा , वो सामना मेरा कर पाएगा ;

जो आज मुझसे, लड़ा ही नहीं , वो मुझसे हारा हुआ कहलाएगा |

 

∼ लक्ष्मी मित्तल

IF IT TOUCHES YOU, PLEASE LIKE, SHARE AND COMMENT